Health

तुलसी के फायदे | Basil (Tulsi) benefits

Basil (Tulsi) benefits and side-effects in hindi

कभी कभी किसी को समझने के लिए हम उससे जुड़े लोग से वाकिफ होते हैं, जैसे भारत को ताजमहल, हॉकी (hockey) को मेजर ध्यानचंद और फुटबॉल को क्रिस्तानो रोनाल्डो के नाम से जाना जाता है कुछ उसी तरह तुलसी के पौधे (Basil) को औषधियों का पर्याय कहा जा सकता है। तुलसी के पत्ते बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होते है। इसको कच्चा खाने मात्र से ही आपके शरीर के कई प्रकार के रोग दूर हो जाते है।

अगर तुलसी रचना की बात करे तो इसमें वसा (fat) की मात्रा बहुत ही कम होता है तथा इसमें प्रोटीन (protein) , कार्बोहाइड्रेट्स (carbohydrates) और विटामिन्स (Vitamins) की मात्रा अधिक होते है। तो आईये तुलसी के फायदे के बारे में विस्तार से जानते है।

तुलसी के पत्ते के फयदे | Benefits of basil (tulsi) in Hindi

तुलसी के पत्तो का महत्व धार्मिक कार्यों में प्रचलित है वहीँ यह औषधि के रूप में भी अच्छा ख़ासा नाम कमाया हुआ है। तुलसी के दिव्य पौधे को निम्नलिखित तरीकों से उपयोग में लाया जा सकता है।

सर्दी खांसी में लाभकारी | Basil (tulsi) cures cough in hindi

सर्दी के दिनों में खांसी का होना, सरदर्द का होना आम बात है। इसके उपचार के लिए तुलसी के पत्ते बहुत ही फायदेमंद है। इसक सेवन आप कच्चा भी कर सकते है या फिर इसको पीस कर एक पेस्ट बनाकर भी ले सकते है। आईये इसको बनाने की विधि के बारे में जानते है।

पेस्ट बनाने की विधि: तीन चार ग्राम तुलसी की पत्ते को पीसकर दही (Curd), शहद (Honey) या दूध (Milk) के साथ मिलकर पेस्ट बनाकर खाली पेट लेने पर सर्दी-खांसी कम होती है ।

जरूर पढ़े: खांसी से राहत के लिए घरेलू उपचार

जी मचलने से राहत पाए | Basil (tulsi) helps to cure Nausea in hindi


तुलसी का करने से सेवन जी मचलने में भी बहुत ही फयदा होता है। आयुर्वेद के अध्ययनों से पता चलता है कि इसमें एक यूजेनॉल (Eugenol) नामक पदार्थ होता है जिससे जी मचलने के दौरान हमे राहत मिलती है। आईये इसकी उपचार की विधि जानते है।

विधि: तुलसी की 3-4 पत्तियों के रस को शहद के साथ मिलाकर चाटने से उल्टी (vomit) जैसे भावना आना बंद हो जाते है ।

निमोनिया के इलाज में लाभदायक| Basil (tulsi) cures Pneumonia in hindi

तुलसी के पत्ते के तत्व हमारे फेफड़ों के लिए बहुत ही लाभदायक होते हैं। यह निमोनिया के इलाज में अतयधिक मदद करते हैं। आईये इसको बनाने की विधि के बारे जानते है।

बनाने की विधि: 50 ग्रा तुलसी का पत्ता ,25 ग्रा अदरक (Ginger), 15 ग्रा कालीमिर्च (Black pepper) और 10 ग्रा इलायची (cardamom) कूटकर एक साथ तब तक उबालें जब तक ये मिश्रण 20 ग्रा ना बच जाए। यह मिश्रण सभी उम्र के लोगों के लिए लाभदयक और असरदार है ।

तुलसी के पत्ते का दमे में इलाज | Basil (tulsi) for curing Asthma in Hindi


तुलसी के पत्तों के जरिये दमे का इलाज भी संभव है। निचे लिखी विधि के प्रयोग करे आपको जरूर राहत मिलेगी।

विधि: मुलेठी, गुलबनफ्सा, व तुलसी के पत्तों का काढ़ा बनाकर उपयोग करने से साँस के रोगों से मुक्ति मिलती है ।

रोग-प्रतिरोधक छमता बढ़ाने में लाभदायक | Basil (tulsi) increases disease resistancecapability in the body


तुलसी के पत्ते बच्चों एवं बड़ों के लिए रामबाण औषधि है। इसे निम्नलिखित तरह से उपयोग करके बहुत से रोगों से बचा जा सकता है।

विधि: तुलसी के पत्तों का 15-20 ग्रा रस निकाल के गाय के घी में धीमी आंच पर गर्म करें, फिर इस लेप से अपने शरीर की मालिश करें। आप अत्यधिक ऊर्जावान महसूस करेंगे।

लेटेस्ट न्यूज़ और जानकारी के लिए हमे Facebook, Google News, YouTube, Twitter,Instagram और Telegram पर फॉलो करे

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Most Popular

To Top