Knowledge

उद्योग आधार कैसे बनाए ?

डिजिटाइजेशन के इस युग में आज जहां नौकरी पाने की होड़ लगी हुई है। सरकारी नौकरियों पर हजारों पदो के लाखों की संख्या में लोग आवेदन कर रहें हे। वही दूसरी तरफ भारतीय प्रधानमंत्री द्वारा आत्मनिर्भर भारत बनाने की दिशा में भी काफी किए जा रहे है। युवाओं को खुद का स्टार्टअप शुरू करने की सलाह दी जा रही है। ताकि वह अपने दम पर कुछ कर पाए और नौकरी के पीछे भागने की बजाय नौकरी देने की दिशा में आगे बढ़े। लेकिन बेरोजगारी के स्तर को देखते हुए यह भी सावधानी रखी जानी चाहिए कि कोई फर्जी कंपनी आपसे सम्पर्क तो नहीं कर रही। पैसे लेकर नौकरी देने की ऐसी ही कई घटनांए अक्सर सामने भीआती रही है। जहां नौकरी की जरूरत के चलते लोग पैसे देकर भी इसे प्राप्त नहीं कर पाते। इसके साथ ही अक्सर सरकार द्वारा दी जाने वाली सुविधाओं का लाभ भी उन लेगो तक नहीं पहुंच पाता है। जिनके लिए वे योजनाएं बनाई गई होती है। अक्सर सरकार द्वारा ऐसी कई येजनाएं लागू की जाती है। जो आम आदमी को कई तरह के लाभ अर्जित करने में मदद करती है। चाहे वो नौकरी के संदर्भ में हो या किसी अन्य के। पर क्योंकि जानकारी के अभाव, और अधूरे ज्ञान के कारण लोग इनका लाभ उठा नहीं पाते। इसलिए सरकार उद्योग आधार की सुविधा ऐसे ही व्यवसायों से सम्बंधित लोगों के लिए शुरू की गई है। यह व्यवसाय के लिए एक महत्वपूर्ण जरूरत भी है तो वहीं व्यवसायों को लोगों के बीच एक पहचान दिलाने का भी काम करता है। यह आधार सर्टिफिकेट सरकार द्वारा, लघु, सूक्ष्म और मध्यम उदयोगो को प्रदान किया जाता है। यह उदयोग लोन के नाम से भी जाना जाता हे। सरकार द्वारा दी जाने वाली विभिन्न् योजनाओं में लाभ प्राप्त करने के लिए आप लघु उदयोगों से लेकर मध्यम उदयोगों का उदयोग आधार रजिस्ट्रेशन कराकर के इन योजनाओं का लाभ प्राप्त कर सकते है।
यदि आप उदयोग आधार रजिट्रेशन कराते है, तो आपकें सरकार द्वारा दी जाने वाली किसी भी येजना का लाभ सबसे पहले होगा साथ ही यह रजिट्रेशन ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों ही तरह से उपलब्ध है। हालांकि, इसमें एक व्यक्ति या कारोबार को एक ही बार उदयोग आधार नंबर दिया जाता हे। यह निशुल्क किया जाता है। उदयोग आधार की पंजीकरण संख्या 12 अंके की होती है जिसे 18 सितंबर 2015 को शुरू किया गया था। यह उदयोग आधार सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय द्वारा संचालित किया जाता है। यह मंत्रालय ही इससे जुड़ी सभी बातों पर निगरानी रखता है। तथा इसका संचालन भी इसी के द्वारा किया जाता है। अपने व्यवसाय को कानूनी या पंजीकृत दिखाकर ही आप लोगों के मध्य विश्वसनीयता हासिल कर पाएंगे। यही कारण है कि उदयोग आधार इतना महत्वपूर्ण हो जाता है ंइसके लिए आपकें दो फार्म को भरना जरूरी होता हैं। इसके अलावा भी इसमें कई अन्य प्रकार के फार्म भरे जाते है। आप पीएम उदयोग आधार स्कीम की मदद से इन कामों को आसानी से कर सकते है। आफॅलाइन होने के चलते लोगों को अक्सर परेशानी का सामना करना पड़ता था लेकिन अब सरकार द्वारा एमएसएमई की मदद से उदयोग आधार को आनॅलाइन मोड पर उपलब्ध करा दिया गया। इसके लिए प्रक्रिया को आगे बढ़ाते हुए एंटरप्रेनर को पर्सनल सर्पोट नम्बर, उदयम का नाम, बैंक की जानकारी, पता आदि देना होगा।

क्या है अमेज़न अलेक्सा और कैसे करता है यह काम


आनॅलाइन पंजीकृत करने के लिए


Step 1 आधिकारिक उद्योग पंजीकरण पोर्टल पर जाना होगा।
Step 2- अपनी व्यक्तिगत जानकारी दर्ज करें – आरंभिक विवरण जो आपको दर्ज करने होंगे। नाम, आपका 12 अंकों वाला विशिष्ट आधार नंबर होगा। इसके बाद आपको ‘‘ मान्य और जनरेट ओटीपी’’ पर क्लिक करें।अपने पंजीकृत मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी प्राप्त होगा। वह ओटीपी दर्ज करें।
Step 3- पैन सत्यापन – संगठन के प्रकार का चयन करें और अपना पैन नंबर दर्ज करें और मान्य पर क्लिक करें। पैन सत्यापन होता है। किसी कंपनी/ एलएलपी/आधार नंबर के साथ कंपनी/ सोसाइटी आदि जीएसटीआईएन और पैन प्रदान करेगा।
Step 4- पत्राचार विवरण भरना – उपर वर्णित सभी विवरण भरने के बाद, आपको जो अगली जानकारी प्रदान करनी होगी, वह कंपनी/उद्यम/संस्था का पूरा डाक पता होगा। अपनी कंपनी के जिले, पिन कोड, राज्य, ईमेल पते और मोबाइल नंबर के बारे में भी जानकारी लें।
Step 5- बैंक विवरण भरें – आपको संबंधित शाखा के आईएफएससी कोड के साथ अपने उद्यम का सक्रिय बैंक खाता नंबर दर्ज करना होगा। यदि आपके पास संबंधित शाखा का आईएफएससी पर इसके प्राप्त कर सकतें हैं ।
Step 6 – एंटरप्राइज विवरण – आपको ‘‘ सेवाओं’’ या ‘‘विनिर्माण’’ से अपने उद्यम की मुख्य गतिविधि का उल्लेख करना होगा। आपको कार्यरत व्यक्तियों की कुल संख्या और राष्टीय उद्योग वर्गीकरण कोड को गतिविधियों के लिए प्रस्तुत करना होगा।
सभी विवरणों को भरने के बाद, आखिरी चीज कुल धनराशि दर्ज की जाएगी जो आपने अपने मशीनरी या संयंत्र में निवेश की है।
Step 7 – जिला उदयोग केंद्र का चयन करें और घोषणा को स्वीकार करें – इस प्रक्रिया के अंतिम चरण में, आप प्रदान की गई डॉप-डाउन सूची से जिला उदयोग केंद्र का चयन करेंगे। उसके बाद, आपको घोषणा को स्वीकार करना होगा और ‘‘सबमिट ओर अंतिम ओटीपी प्राप्त करें’’ पर क्लिक करना होगा।

मोबाइल पर प्राप्त ओटीपी दर्ज करें और फाइनल सबमिट बटन पर क्लिक करें। एक बार जब आप ‘ सबमिट करें और अंतिम ओटीपी प्राप्त करें’ पर क्लिक करें, तो आपको एक पंजीकरण संख्या प्राप्त हेगी। एक बार जब आपकी सभी जानकारी सरकार द्वारा सत्यापित हो जाती है, तो आपको अपनी ई-मेल आइडी पर एक ई-पंजीकरण दस्तावेज प्राप्त होगा।
एमएसएमई पंजीकरण प्रक्रिया पूरी तरह से ऑनलाइन, पेपरलेस और स्व-घोषणा पर आधारित है। एमएसएमई को पंजीकृत करने के लिए दस्तावेजों या प्रमाण की कोई आवश्यकता नहीं है। पंजीकरण के लिए केवल आधार संख्या ही पर्याप्त होगी। उद्यमों के निवेश और टर्नओवर पर पैन और जीएसटी जुड़ा हुआ विवरण सरकारी डेटाबेस से स्वचलित रूप से लिया जाएगा। पैन और जीएसटी नंबर 01,04,2021 से अनिवार्य हो।
किसी भी विसंगति या शिकायत के मामले में, संबंधित जिले के जिला उदयोग केंद्र के महाप्रंबधक उदयम द्वारा प्रस्तुत उदयम पंजीकरण के विवरण के सत्यापन के लिए एक जांच करेंगे।

Follow Us : Facebook Instagram Twitter

लेटेस्ट न्यूज़ और जानकारी के लिए हमे Facebook, Google News, YouTube, Twitter,Instagram और Telegram पर फॉलो करे

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Most Popular

To Top