Life Style

ये सभी चीजें होती है आपकी सेहत के लिए फयदेमंद

sehat ke liye faydemand chije
Sehat ke liye faydemand chije :-

सेहत हमारे जीवन में बहुत ज्यादा मायने रखती है। और हो भी क्यों न दिनभर की मेहनत और काम करने का कोई फायदा नहीं होगा अगर हम सेहत के साथ खिलवाड़ करेंगे। हमारा इतिहास उठाकर देखा जाए तो अच्छी सेहत के लिए ऋषि मुनियां से लेकर आम जन तक सभी व्यायाम, खान-पान आदि को अपनी रोजमर्रा की दिनचर्या का हिस्सा बनाते थे। आज के समय में भी हम लोग इसका पूरा ध्यान रखने की भरपूर कोशिश तो करते हैं, लेकिन वक्त की कमी के चलते पूरी तरह उसपर ध्यान दे नहीं पाते। मोटापे की समस्या भी तो इसी कारण पैदा होने लगी है। क्योंकि सेहत के लिए क्या खाना सही रहेगा और क्या नहीं ये हमें कभी पता ही नहीं चल पाता। बाजार में मिलने वाले डाइट फूड पर भरोसा करके हम उनका इस्तेमाल अपने खाने में करना शुरू कर तो देते है लेकिन क्या वाकई में वो हमारी सेहत के लिए पौष्टिक एंव फायदेमंद है या नहीं ये नहीं जान पाते।

इसके अलावा डाइटिशन्स की सलाह से लोग आजकल अपने दिनचर्या की शुरूआत करना ज्यादा पंसद करते है। क्या खाना आपनी सेहत के लिए सही रहेगा और क्या नहीं इसका सुझाव आपकों डाइटिशन्स से मिल सकता है। ज्यादातर लोग अपना पर्सनल डाइटिशन्स रखना पंसद करते हैं। लेकिन आम लोग जो मुश्किल से अपना गुजर बसर कर रहे हैं। उनके लिए ये करना थोड़ा नामुमकिन सा है। इसलिए वो अपनी रोजमर्रा की जिन्दगी में पौष्टिक खान-पान को पूरी तरह से अनदेखा कर देते हैं।

Whatsapp को Uninstall करके लोग Signal App को कर रहे है डाउनलोड, कैसे करे इसका इस्तेमाल ?

पौष्टिक भोजन में हम कोई अधिक खर्चीली चीजों की बात नहीं कर रहे हैं। हम बात कर रहे हैं घर पर ही बने पौष्टिक खाने की। जिसमें हरी सब्जियां, दालें, रोटी जैसी खाने की चीजें शामिल है। जो हमारे दैनिक जीवन में हम सबसे ज्यादा पसंद करते हें। आज हम ये देखते हैं कि बच्चों से लेकर बड़ो की भी ये आदत बन चुकी है कि वो जंक फूड यानी बाहर का पिज्जा, बर्गर जैसी तली भूनी चीजों को खाना ज्यादा पंसद करते हैं खासतौर पर बच्चें। जिन्हें पूरे दिन में ज्यादा से ज्यादा बाहर का खाना पंसद होता है चाहे वो स्कूल की कैंटीन में हो या घर पर। लेकिन ये केवल एक समय तक ही अच्छा होता है। खाने की भूख इन चीजों से शांत नही होती। हम भारतीयों की खास आदत में शुमार ही घर का बना खाना होता है जो विदेशी जमीन पर भी हमारा पीछा नहीं छोड़ता।

 खानां की पौष्टिक चीजों की बात की जाए तो सबसे पहले आती हैं दालें। भारतीय संस्कृति में खाने का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा। अरहर, उड़द, मूंग आदि दालें पौष्टिक खाने के रूप में देखी जाती है। खिचड़ी जैसे व्यंजन में मूंग की दाल सबसे ज्यादा हमारी सेहत के लिए फायदेमंद साबित होती है। पेट संबंधी खराबी को दूर करने के लिए मूंग की दाल की खिचड़ी को खाना हमारे यहां सबसे ज्यादा पंसद भी किया जाता है।

उपमा भी हमारे यहां पौष्टिक खाने का एक बेहतर विकल्प माना जाता है। सूजी को भूनकर उसमें कई सब्जिंया मिलाकर उपमा बनाया जाए तो खाने में स्वादिष्ट होगा ही साथ ही सेहत के लिए भी उतना ही फायदेमंद होगा।

उपमा के अतिरिक्त पोहा भी खाने में काफी हल्का व्यंजन माना जाता है। पोहे में मूंगफली को भूनकर डालें और छोंका लगाकर खाया जाए तो वो भी आपके मुंह का स्वाद तो बढाएगा ही साथ सेहत के लिए भी काफी अच्छा साबित होगा। उपमा और पोहा हम लोग अक्सर अपने खाने की बजाय अपने नाशते में लेना ज्यादा पंसद करते है। हालांकि ज्यादा उसमें परांठे ही नजर आएंगे लेकिन क्योंकि आप सेहतमंद खाने की बात कर रहे है। तो उपमा और पोहे का नाश्ता ही बेहतर हेगा।

इसके साथ ही हरी पत्तेदार सब्जियां तो हमारे यहां पौष्टिक खाने का राजा कही जा सकती है। सर्दियों के मौसम में तो सबसे ज्यादा खाने में यही देखने को मिल सकती है। साग ओर मक्के की रोटी हो या बथुआ हो या सरसों, पालक ये सभी  सेहत के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद होते है। इससे मेटाबॉलिज्म ठीक होता है तो वही आंखों की रोशनी और कैंसर की रोकथाम के लिए भी ये फायदेमंद है। गठिया जैसी बीमारी में भी ये लाभदायक साबित होता है। डॉयबिटिज के रोगियों के लिए, प्रेग्नेंट  महिलाओं के लिए, अस्थमा रोगियों सभी के लिए साग खाना काफी लाभदायक साबित होता है। खाना जिन्दा रहने के लिए जितना जरूरी है वही पौष्टिक खाना भी उतना ही ज्यादा जरूरी है एक अच्छी सेहत के साथ अगर अच्छी डाइट हो तो वो हमें कभी बूढ़ा नहीं बना सकते। चाहे आपका मन कितना भी बूढ़ा महसूस करने लगे लेकिन आपका तन कभी बूढ़ा महसूस नहीं करता। यही कारण है कि वजन घटाने वाले लोग जो अक्सर जिम में पार्कों में घंटो एकसरसाइज कर पसीना बहाते नजर आते हैं वो भी अपने जीवन में 80 प्रतिशत डाइट का पालन करते हैं। क्योंकि अगर आपकों तंन्दुरूरती चाहिए तो वो केवल पसीना बहाने से नहीं आएगी बल्कि उसके लिए खान पान पर भी ध्यान देना उतना ही जरूरी है। इसलिए अपनी सेहत की कुंजी को खान पान के सहारे खोलने की शुरूआत कीजिए।

Follow Us : Facebook Instagram Twitter

लेटेस्ट न्यूज़ और जानकारी के लिए हमे Facebook, Google News, YouTube, Twitter,Instagram और Telegram पर फॉलो करे

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Most Popular

To Top